Repainting

Kripi Badonia, 2nd Year, IT muses on about being the canvas to someone else’s brush and easel!

Continue reading “Repainting”

Advertisements

28 जुलाई 2015

“नीला आसमान सो गया…….!!ऐसा शून्य जिसकी भरपाई कभी नही हो पाएगा। कलाम नहीं रहे।” लोकेश नारायण शंकर, प्रथम वर्ष, आई. टी. का एक दुखद दिन का संस्मरण।

चित्र : आर. के. लक्ष्मण

Continue reading “28 जुलाई 2015”